Saturday, November 1, 2014

रूठी माँ









मेरी प्यारी माँ 
तुझसे ही तो जीवन मिला 
तुझसे ही संस्कार मिले 
 फिर आज क्यों रूठ गयी माँ?

मेरी प्यारी माँ 
तुझसे ही सीख मिली 
तुझसे ही अनमोल प्यार मिला 
फिर आज  रूठ गयी माँ?

मेरी प्यारी माँ 
तुझसे ही सीखी मेहनत 
तुझसे ही सीखा साहस 
फिर आज क्यों रूठ गयी माँ?

मेरी प्यारी माँ 
तुझसे ही सीखी हिम्मत 
तुझसे ही सीखा प्यार का मतलब 
फिर आज क्यों रूठ गयी माँ?

मेरी प्यारी माँ 
कैसे भूलों तुम्हारे हाथ का खाना 
कैसे भूलों मेरी बेटियों पर प्यार लूटना 
फिर आज क्यों रूठ गयी माँ?

मेरी प्यारी माँ 
हर लम्हे को जीना सीखा 
हर मुश्किल से लड़ना 
फिर आज  क्यों रूठ गयी माँ?

मेरी प्यारी माँ 
किसके साथ मनाऊँगी खुशियाँ 
किसके साथ बाँटूँगी  अपना गम 
फिर आज क्यों रूठ गयी माँ?

मेरी प्यारी माँ 
मदहोशी हालत मैं भी पकड़ा मेरा हाथ 
फिर प्यार से चूमा  मेरा हाथ 
फिर आज क्यों रूठ गयी माँ?

मेरी प्यारी माँ 
तू हम सबको छोड़ किस जहान  मैं है 
तेरे सारे प्यारे  साथ ही तो हैं 
फिर क्यों रूठ गयी माँ?

मेरी प्यारी माँ 
आज तो सामने होकर भी दूर है 
दिल मैं एक दुःख  का दरिया है 
फिर आज  क्यों रूठ गयी माँ?

मेरी प्यारी माँ 
तेरे अपने सदैव तुझको पुकारते 
सब तुझे अपने दिलों मैं बसाते 
फिर आज क्यों रूठ गयी माँ?

मेरी प्यारी माँ
 चाहे तू आज सबसे रूठ गयी 
हर दिल मैं तेरा बसेरा है 
फिर आज क्यों रूठ गयी माँ?

मेरी प्यारी माँ 
तेरे रूठेपन  को हम समझते 
खुदा  की कुदरत को भी हम समझते 
फिर  आज क्यों रूठ गयी माँ?

मेरी प्यारी माँ 
अश्कोँ  के बीच मैं भी तुझे करीब पाते 
ईश्वर को सदा  दुआ करते 
फिर आज क्यों रूठ गयी माँ?

मेरी प्यारी माँ 
तू हमेशा चमकती रहे 
तेरी यादें सौगातें बनती  हैं 
तुम्हारे न रूठने का इंतेज़ार करते

मेरी प्यारी माँ 
आ फिर लौट आ 
 मेरी प्यारी मा 
हम सब यह ही इंतज़ार करते

                                          -------  आभा मिढा 

1 comment:

  1. I know your mother wasnt well....what is the status now?

    ReplyDelete